भारत के प्रमुख वन्य जीव अभयारण्य/राष्ट्रीय उद्यान

भारत के प्रमुख वन्य जीव अभयारण्य/राष्ट्रीय उद्यान                                                                                                               

  • जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय पार्क है|जो वर्ष 1936 में लुप्तप्राय वाघ की रक्षा के लिए हैंली नेशनल पार्क के रूप में स्थापित किया गया था। यह उत्तराखण्ड के नैनीताल जिले में स्थित है और इसका नाम जिम कॉर्बेट के नाम पर रखा गया था बाघ परियोजना पहल के तहत आने वाला यह पहला पार्क था।
  • भारत का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान जम्मू-कश्मीर के लेह जनपद में स्थित हेमिस हाई (Hemis High ) है।
  • भारत का सबसे छोटा राष्ट्रीय उद्यान अण्डमान-निकोबार द्वीप समूह के जिले साउथबटन (0.03 वर्ग किमी.) में है ।
  • देश में सर्वाधिक राष्ट्रीय उद्यान (11) मध्यप्रदेश में है। इसे  टाइगर स्टेट भी कहते हैं।
राज्यअभयारण्य/राष्ट्रीय उद्यान                                                                                                              
झारखंडपलामू  अभयारण्य दाल्मा वन्य जीव अभयारण्य हजारीबाग वन्य जीव अभयारण्य
गुजरातगिर राष्ट्रीय उद्यान  नल सरोवर अभयारण्य
उत्तराखण्डजिम कॉर्बेट नेशनल पार्क               नन्दा देवी नेशनल पार्क  वैलि ऑफ फ्लावर्स नेशनल पार्क    राजाजी नेशनल पार्क    गंगोत्री नेशनल पार्क     
उत्तरप्रदेशदुधवा राष्ट्रीय उद्यान चन्द्रप्रभा अभयारण्य
कर्नाटकबांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान  भद्रा अभयारण्य सोमेश्वर अभयारण्य  तुंगभद्रा अभयारण्य नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान
तेलंगानापाखाल/ कावला वन्य जीव अभयारण्य
असममानस राष्ट्रीय उद्यान काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान नामेरी नेशनल पार्क
राजस्थानघाना पक्षी विहार  रणथम्भौर अभयारण्य  कुंभलगढ़ अभयारण्य केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान
राज्यअभयारण्य/राष्ट्रीय उद्यान
महाराष्ट्रतंसा अभयारण्य वोरीविली रा० उद्यान पेंच राष्ट्रीय उद्यान
ओड़ीसाचिल्का अभयारण्य सिमलीपाल अभयारण्य भीतरकनिका नेशनल पार्क
तमिलनाडूवेदान्तगल अभयारण्य इंदिरा गाँधी अभयारण्य मुदुमलाई अभयारण्य
मिजोरमडाम्फा अभयारण्य
केरलपेरियार अभयारण्य पराम्बिकुलम अभयारण्य सबरीमाला नेशनल पार्क साइलेंट वैली नेशनल पार्क
मध्यप्रदेशकान्हा किसली रा० उद्यान पंचमढ़ी अभयारण्य बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान पन्ना नेशनल पार्क
जम्मू और कश्मीरडाचीगाम राष्ट्रीय उद्यान किश्तवाड़ राष्ट्रीय उद्यान
अरूणाचल प्रदेशपखुई वन्य जीव
हरियाणासुल्तानपुर झील अभयारण्य
पंजाबअबोहर अभयारण्य
हिमाचल प्रदेशरोहिला राष्ट्रीय उद्यान
पश्चिम बंगालसुन्दरवन राष्ट्रीय उद्यान बुकसा टाइगर रिजर्व     जलदपारा राष्ट्रीय उद्यान
गोवाभगवान महावीर उद्यान
बिहार       वाल्मीकि नेशनल पार्क गौतम बुद्ध वन्य जीव अभ्यारण्य
मणिपुरकैबूल लामजाओ नेशनल पार्क
मेघालयनोंगरवाइलेम अभयारण्य

                 राष्ट्रीय पार्क और अभ्यारण में अंतर

राष्ट्रीय उद्यानवन्यजीव अभ्यारण
राष्ट्रीय पार्क का गठन विशेष प्रकार की शरणस्थली के रूप में संरक्षण के लिये किया जाता है अर्थात इस विशेष शरणस्थली क्षेत्र में रहने बाले सभी जीवों का संरक्षण समान रूप से किया जाता है।वन्यजीव अभ्यारणों का गठन किसी एक प्रजाति अथवा कुछ विशिष्ट प्रजातियों के संरक्षण के लिये किया जाता है, अर्थात ये विशिष्ट प्रजाति आधारित संरक्षित क्षेत्र होते हैं।
राष्ट्रीय पार्क में किसी भी प्रकार के अधिवास और मानवीय गतिविधि की अनुमति नही होती हैजबकि वन्यजीव अभयारण्य में मानव गतिविधियों की अनुमति दे दी जाती है।
राष्ट्रीय उद्यान में शिकार और चराई पूरी तरह से निषिद्ध हैं।वन्यजीव अभयारण्य में शिकार अनुमति के बिना निषिद्ध है, हालांकि चराई और मवेशियों की आवाजाही की अनुमति है।
राष्ट्रीय पार्क को अभ्यारण घोषित नही किया जा सकता।वन्यजीव अभ्यारण को राष्ट्रीय पार्क में परिवर्तित किया जा सकता है।
 राष्ट्रीय उद्यान बहुत ही सुरक्षित होते है और इसके नियम भी कड़े होते है।वन्यजीव अभ्यारण में जो सुरक्षा होती है वो राष्ट्रीय उद्यान की अपेक्षा कम होती है।
राष्ट्रीय उद्यान में आप टूरिज्म के उदेश्य से नहीं जा सकते है।वन्यजीव अभ्यारण में आप टूरिज्म के उदेश्य से जा सकते है।
सर्वाधिक राष्ट्रीय उद्यान मध्यप्रदेश में है।सर्वाधिक अभ्यारण अंडमान निकोबार में है।

 कुछ खास जीव से संबंधित अभ्यारण्य

कच्छ का छोटा रन (गुजरात) –जंगली गधा
काजीरंगा (असोम)-एक सींग वाला गैंडा
गिर (गुजरात)-एशियाई सिंह
वनविहार नेशनल पार्क(मध्यप्रदेश)सफेद बाघ
रेगिस्तान राष्ट्रीय पार्क (राजस्थान )ऊँट
(गहिरमाथा)भीतरकनिका अभयारण्यओलिव रिडले
केवलादेव उद्यान(राजस्थान )साइवेरियाई सारस
डाचीगाम सैंक्चुअरीकश्मीरी महामृग/सफेद भालू

                          बाघ-परियोजना

  • भारत में पहली बाघ गणना वर्ष 1972 में की गई थी।
  • 1 अप्रैल, 1973 ई. को जिम कॉर्बेट (उत्तराखंड) राष्ट्रीय उद्यान में बाघ परियोजना की शुरुआत की गई।
  •  वर्तमान में देश के 18 राज्यों में 50 बाघ संरक्षण उद्यान हैं,
  •  क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा बाघ आरक्षित क्षेत्र नल्लामलाई श्रेणी में स्थित नागार्जुन सागर (श्री सेलम, आन्ध्र प्रदेश) है।
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे छोटा बाघ आरक्षित क्षेत्र पेंच (महाराष्ट्र) है।
  •  विश्व का सर्वाधिक ऊँचाई पर अवस्थित बाघ आरक्षित क्षेत्र नामदाफा (अरूणाचल प्रदेश) है।
  • भारत का दक्षिणतम बाघ आरक्षित क्षेत्र कालकड-मुण्डनथराई (तमिलनाडु) है।
  • काजीरंगा विश्व में सर्वाधिक बाघ घनत्व वाला राष्ट्रीय पार्क है।
  • भारत में मध्यप्रदेश को टाइगर स्टेट के नाम से जाना जाता है मध्यप्रदेश के राष्ट्रीय उद्यानों में हर वर्ष नवम्बर माह में मोगली महोत्सव मनाया जाता है
  •  वर्ष 2010 को भारत सरकार ने बाघ वर्ष के रूप में मनाया।
  • रेड डाटा बुक में ऐसे पशु-पक्षियों और पौधों के बारे मे जानकारी दी गई है, जो विलुप्त (संकटग्रस्त होने के कगार पर हैं। विश्व में प्रथम प्रकाशन 1964 ई. में किया गया।
राज्यबाध आरक्षित क्षेत्र
असम काजीरंगा मानस नामेरी ओरांग
अरूणाचल प्रदेशनमदाफा  पाकुई  कमलांग
कर्नाटकबांदीपुर नागरहोल भद्रा दांदेली-अंशी  बिली गिरी
मध्यप्रदेशबांधवगढ़ सतपुड़ा कान्हा  पन्ना पेंच  संजय डुबरी
आंध्र प्रदेशनागार्जुन-सागर-श्रीसेलम  कावल
बिहारवाल्मीकि
केरलपेरियार पारम्बिकुलम
छत्तीसगढ़इंद्रावती  अचानकमार  उदंती-सीतानदी
महाराष्ट्रमेलघाट  पेंच तदोबा-अंधेरी  सहयाद्रि
मिजोरमडंपा
राजस्थानरणथम्भौर सरिस्का  मुकुंद्रा हिल्स
उत्तर प्रदेशदुधवा  पीलीभीत अमानगढ़  राजाजी
उत्तराखण्डजिम कार्बेट
पश्चिम बंगालबुक्सा  सुंदरबन
ओडिशासिमलीपाल  सतकोसिया
तमिलनाडुकालकड-मुंदथुरेई अन्नामलाई मदुमलाई  सत्यमंगलम

                 संरक्षित जैवमंडल

  • यूनेस्को (UNESCO) के संरक्षित जैवमंडलों के विश्व नेटवर्क के अंतर्गत अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर निर्दिष्ट संरक्षित क्षेत्र आते हैं, जिन्हें संरक्षित जैवमंडल कहा जाता है और जिनका उद्देश्य मानव और प्रकृति के बीच एक संतुलित संबंध को प्रदर्शित करना होता है।
  • वर्ष 1986 में भारत का पहला जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र नीलगिरि  स्थापित किया गया।
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जैव मंडल आरक्षित क्षेत्र मन्नार की खाड़ी एवं सबसे एवं सबसे छोटा डिब्रू सैखोवा है।
  • भारत का उत्तरतम जैवमंडलीय आरक्षित क्षेत्र  शीत मरूस्थल (7770) है।
  • भारत का दक्षिणतम जैवमंडलीय क्षेत्र ग्रेट निकोबार है।
  • भारत सरकार द्वारा देश में अब तक जिन 18 संरक्षित जैवमंडलों की स्थापना की गई है, इनमें से 10 अब तक यूनेस्को के संरक्षित जैवमंडलों के वैश्विक नेटवर्क में शामिल हो चुके हैं।
  • भारत में जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र

1. कोल्ड डेजर्ट, हिमाचल प्रदेश

2. नंदा देवी, उत्तराखंड

3. कंचनजंगा, सिक्किम

4. देहांग-देबांग, अरुणाचल प्रदेश

5. मानस, असम

6. डिब्रू-साइखोवा, असम

7. नोकरेक, मेघालय

8. पन्ना, मध्य प्रदेश

9. पचमढ़ी, मध्य प्रदेश

10. अचनकमार-अमरकंटक, मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़

11. कच्छ, गुजरात

12. सिमिलीपाल, ओडिशा

13. सुंदरबन, पश्चिम बंगाल

14. शेषाचलम, आंध्र प्रदेश

15. अगस्त्यमाला, कर्नाटक-तमिलनाडु-केरल

16. नीलगिरी, तमिलनाडु-केरल

17. मन्नार की खाड़ी, तमिलनाडु

18. ग्रेट निकोबार, अंडमान और निकोबार द्वीप

       पर्यावरण से संबंधित महत्वपूर्ण व्यक्ति

सलीम अलीबर्डमैन ऑफ इंडिया
कैलाश सांखलाटाइगर मैन ऑफ इंडिया
राजेंद्र सिंहवाटर मैन ऑफ इंडिया
रविन्द्र कुमार सिन्हाडॉल्फिन मैन ऑफ इण्डिया
सुन्दरलाल बहुगुणाचिपको आन्दोलन
मेधा पाटेकरनर्मदा बचाओं आन्दोलन
पांडुरंग हेगड़ेअप्पिको आंदोलन के प्रवर्तक
कल्याण सिंह रावतमैती आन्दोलन
संत जांभोजी, अमृता देवी बिश्नोईबिश्नोई आन्दोलन

                               वन महोत्सव-

  • कृषि मंत्री के.एम.मुन्शी ने 1950 में अधिक वृक्ष लगाओं आन्दोलन’ चालू किया था जिसका नाम ‘वन महोत्सव ‘ रखा गया।
  • इस आन्दोलन का उद्देश्य मानव द्वारा निर्मित वनों का क्षेत्रफल बढ़ाना व जनता में वृक्षारोपण की प्रवृत्ति पैदा करना है।
  • यह प्रति वर्ष पूरे देश में 1 जुलाई से 7 जुलाई तक वन महोत्सव कार्यक्रम मनाया जाता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: